अब वाहन चेकिंग के नाम पर आप को परेशान नहीं करेगी थाने से संबंधित पुलिस 1

अब वाहन चेकिंग के नाम पर आप को परेशान नहीं करेगी थाने से संबंधित पुलिस

Uncategorized भारत राजनीति

वाहन चेकिंग के संदर्भ में योगी सरकार का तात्कालिक निर्णय
पुलिस विभाग में थाने के बड़े साहब कहे जाने वाले कुछ निरंकुश लोगों के ऊपर .
गिरने वाला एक ऐसा गाज़ है ,
जो शासनादेश के रूप में उभर कर सामने आया है , कि …
लोकल पुलिस जो थाने से संबंधित है , वह गाड़ियों की चेकिंग नहीं करेगा
जबकि अब तक धन उगाही के प्रबल इच्छा के चलते
मुहल्ले और कालोनियों में घुसकर और चोर उचक्के की तरह घात लगाकर, झाड़ियों के इर्द-गिर्द थाने की गाड़ी को खड़ी करके – वाहन चेकिंग के नाम पर एक गंभीर और गंदा खेल खेला जा रहा था .
जो देखने में कानून व्यवस्था को चुस्त-दुरुस्त करने के नाम पर भले रहा हो .
लेकिन उसके पीछे बहुत गंदी नियत काम कर रही थी , ….वह था निजी जेब भरने का धंधा!
पुलिस के इस गंदे तरीके से निपटने के लिए योगी सरकार ने जब देखा कि वाहन अधिनियम
चेकिंग के नाम पर पुलिस के लिए केवल दुधारू गाय ही नहीं बन गया है बल्कि , हमारी मित्र पुलिस सरकार का दामन गंदा करने पर उतारू हो चुकी है!
तब उन्होंने अपने विवेकाधिकार का इस्तेमाल करते हुए…..
इस कार्य के लिए ट्रैफिक पुलिस की जवाबदारी तय किया है .!
आज से कुछ वर्ष पूर्व यह काम केवल ट्रैफिक पुलिस ही देखती थी ,

जबकि थाने की पुलिस सुरक्षा और संरक्षा का कार्य देखती थी!
उपजाऊ जगह देखकर पुलिस इस दर पर बड़े मन से परिश्रम करती नजर आई.

गाड़ियों की चेकिंग के नाम पर मोटर चालकों के साथ जल्लाद की तरह पेश आने वाले थानाध्यक्षों / जांच अधिकारियों को इस नियम के लगते ही नींद नहीं आएगी . !
ऊपर से काली कमाई का एक जरिया भी ध्वस्त हो गया .
केंद्रीय मोटर अधिनियम के नए कानून के लाने…. जहां जनता में हाहाकार मचा हुआ था .
और भारी जुर्माने को लेकर के लोगों को हार्टअटैक तक हो गया…
वहीं सरकार का यह निर्णय थानेदारों का ब्लड प्रेशर कम कर देने वाला साबित होगा .
अधिकारों की कटौती के नाम पर जिस तरीके से उत्तर प्रदेश पुलिस के थाने के बड़े साहबों का पंख काटा गया है ,
आज़ तक किसी शासक ने ऐसी जुर्रत नहीं दिखाई थी.
उत्तर प्रदेश सरकार के तमाम उल्टे सीधे निर्णयों के चलते,
जहां जनता में हालिया सरकार के लिए आक्रोश व्याप्त हो रहा था, वही आज इस निर्णय को सुनने के बाद….. स्थानीय जनमानस ने गोले दागकर “योगी जिंदाबाद ” के नारे लगाए
आने वाले कल में आज का यह दिन थानाध्यक्षों की लिए
एक काले दिन
के रूप में याद किया जाएगा .
जब उन्हें अंग्रेजी़ हुक़्मरान जैसा सरेआम सड़क पर वाहन जांच के नाम पर इन्हें तानाशाही दिखाने मौक़ा नहीं मिलेगा.
इसी के साथ ही साथ, *इनके नाजायज़ कमाई पर भी सीधा अंकुश लगेगा.

सरकार के इस निर्णय के चलते ,
आम आवाम ने ख़बर को सुनते ही प्रेस कार्यालय फो़न करके तस्दीक़ करना चाहा कि
क्या वास्तव में ख़बर सच है ?
जहॉ लोग बाग राहत की सांस लिए हैं ,

Leave a Reply

Your email address will not be published.