सांसदों का विकास देश से पांच गुना ज़्यादा

सांसदों का विकास देश से पांच गुना ज़्यादा, 41 प्रतिशत बढ़ी सम्पत्ति।

राजनीति

संविधान (constitution) में देश के विकास के लिए हर पांच वर्ष के बाद जनता को अपना प्रतिनिधि चुनने का प्रावधान है जिससे कि देश का सटीक और तीव्र विकास (devlopment) हो सके और होता भी है लेकिन हाल में आई एक रिपोर्ट के अनुसार पिछले पांच सालों में देश की आर्थिक विकास दर (devlopment rate) अधिकतम 8.2 फीसदी रही है, जबकि देश के सांसदों का खूब आर्थिक विकास हुआ है। पांच सालों में सांसदों की संपत्ति 41 फीसदी बढ़ी है। इसमें भाजपा (BJP) और कांग्रेस (Congress) समेत सभी दलों के सांसद शामिल हैं। एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (ADR) की रिपोर्ट के अनुसार, लोकसभा चुनाव लड़ रहे 338 में से 335 मौजूदा सांसदों की औसत संपत्ति 23.65 करोड़ रुपये है। 
साल 2014 में इन मौजूदा सांसदों की संपत्ति 16.79 करोड़ रुपये थी। यानि कि पांच साल में सांसदों की औसत संपत्ति 6.86 करोड़ रुपये बढ़ी है। एडीआर ( ADR) ने 17वीं लोकसभा चुनाव के 8,049 में से 7928 उम्मीदवारों के हलफनामों का विश्लेषण किया है। इनमें 29 फीसदी की संपत्ति एक करोड़ से ज्यादा है। भाजपा (BJP) 79 फीसदी, कांग्रेस (Congress) के 71 फीसदी उम्मीदवार करोड़पति हैं। बसपा (BSP) के 17 और सपा (SP) के आठ प्रत्याशी करोड़पति हैं।

1500 दागी नेताओं को मिला टिकट, सबसे ज्यादा भाजपा (BJP) के 

वहीं, दागी उम्मीदवारों की बात करें, तो इस लोकसभा चुनाव में 1500 यानि कि 19 फीसदी उम्मीदवार दागी हैं। साल 2014 में 1404(17 फीसदी) उम्मीदवार दागी थे। एडीआर की रिपोर्ट के मुताबिक, 1070 उम्मीदवारों पर दुष्कर्म, हत्या, अपहरण, महिलाओं के खिलाफ अपराध जैसे गंभीर केस दर्ज हैं। साल 2014 में 8205 उम्मीदवारों में 908 यानि कि 11 फीसदी उम्मीदवारों पर ऐसे मामले दर्ज थे। इस बार भाजपा (BJP) ने 175 दागी उम्मीदवारों को टिकट दिया है। कांग्रेस (Congress) ने 164 दागी उम्मीदवारों को जबकि बसपा (BSP) ने 85 दागी उम्मीदवारों को टिकट दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.