वसीम रिज़वी (Waseem Rizwi) फिर एक बार मुश्किलो के घेरे में नजर आ रहे

देश दुनिया राजनीति

वसीम‌ रिजवी (Waseem Rizwi) की मुश्किलें बढ़ी।

अपने विवादित बयानों से लगातार चर्चा में बने रहने वाले वसीम रिजवी (Waseem Rizwi) एक बार फिर मुश्किलों में घिरते नज़र‌ आ‌ रहे हैं। उनकी विवादित फिल्म “राम की जन्मभूमि” (Ram ki janambhumi) में इस्लाम विरोधी अपमानजनक‌ टिप्पणी‌ होने के कारण रूदौली (Rudauli) के समाजसेवी सैय्यद फारूक़ अहमद (S. Faruque Ahmad) और इलाहाबाद के मौलाना हुसैन अख्तर (Hussain Akhtar) नें‌ इलाहाबाद उच्च न्यायलय (Allahbad high court) में‌ अधिवक्ता संतोष सिंह के माध्यम से 28 मार्च को याचिका प्रस्तुत की थी। जिस‌ पर जस्टिस शशिकांत गुप्ता (Shashikant Gupta) और जस्टिस पंकज भाटिया (Pankaj Bhatiya) ने 29 अप्रैल को सुनवाई करते हुए सरकार को हलफनामा दाखिल करने के साथ दूसरे पक्षकारों को नोटिस (Notice) जारी करने का आदेश दिया। मीडिया से बात करते हुए सै. फारूक (S. Faruque) ने कहा कि वसीम‌ रिजवी (Waseem Rizwi) जैसे घृणित मानसिकता के लोग अपने निजी लाभ के लिये किसी‌ भी स्तर तक गिर सकते हैं। देश में शांति और कानून व्यवस्था बनाये रखने के लिये इन‌ जैसे तत्वों पर नियंत्रण लगाना बहुत जरूरी है और हमें न्यायालय (Court) पर पूरा भरोसा है कि न्यायलय (Court) इस विषय में एक मिसाली आदेश पारित करेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.